हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ – J N Mayyaat

Author: | Posted in Your Shayari No comments

हल चलाता किसान

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ
बदल्ती हैं जब सरकारें तब बनजाता हूँ मतदाता आता हूँ नज़र चुनावों में ,




कहलाता हूँ अन्नदाता खिलौना समझ न खेलो मुझसे में भी तो इंसान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ
आए होली जाए दिवाली, में खुद भूखा सोजाता हूँ रोदेता हूँ
जब अपनों को पेड़ों पे लटका पाता हूँ सिखादो लड़ना हालातों से दुनिया से अनजान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ
नहीं हे कपडा बदन पे मेरे छत भी आंसू बहाती हे सुनी पड़ी हे रससोई मेरी,




बस मटकी पानी पिलाती हे क्या होगा कल बच्चों का यही सोच के में परेशान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ
हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

Written By – J N Mayyaat, sanjay.webmaster07@gmail.com

Add Your Comment