Your Shayari Archive

Dr. Kumar Vishwas Shyari in Hindi – Koi Manzil Nahi Jachti

Author: | Categories: Your Shayari No comments
“Koi Manzil Nahi Jachti, Safar Achcha Nahi Lagta , Agar Ghar Laut Bhi Aaun To Ghar Achcha Nahi Lagta , Karun kuchbhi,Mai ab Duniya ko sab,Achcha hi lagta hai Mujhe Kuch Bhi Tumhare Bin Magar Achcha Nahi Lagta” by Dr. Kumar Vishwas “कोई मंज़िल

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ – J N Mayyaat

Author: | Categories: Your Shayari No comments
हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ बदल्ती हैं जब सरकारें तब बनजाता हूँ मतदाता आता हूँ नज़र चुनावों में , कहलाता हूँ अन्नदाता खिलौना समझ न खेलो मुझसे में भी