Online Love Shayari in Hindi – Faasla Itna Badhaane Ki Zarurat Kya Thi ?

sad-love-shayari-online

फासला इतना बढ़ाने की ज़रूरत क्या थी ?
तुझे मुझसे रूठ कर जाने की ज़रूरत क्या थी ?

अब क्यों मुझसे बिछड़ के उदासी है तेरे चहरे पे ?
अपना हाथ मेरे हाथो से छुड़ाने की ज़रूरत क्या थी ?




दुनिया कब किसी के गम को अपना समझती हैं,
तुझे अपना गम दुनिया को दिखने की ज़रूरत क्या थी ?

एक बात तेरी मई आज तक समझ न पाया,
जब साथ तेरे “मैं” था तो तुझे ज़माने की ज़रूरत क्या थी ??

Faasla Itna Badhaane Ki Zarurat Kya Thi ?
Tujhe Mujhse Rooth Kar Jaane Ki Zarurat Kya Thi ?

Ab Kyu Mujhse Bichad K Udaasi Hai Tere Chahre Pe ?
Apna Haath Mere Haatho Se Chudaane Ki Zarurat Kya Thi ?




Duniya Kab Kisi Ke Gamm Ko Apna Samajhti Hain,,
Tujhe Apna Gam Duniya Ko Dikhane Ki Zarurat Kya Thi ?

Ek Baat Teri Mai Aaj Tak Samajh Na Paaya,,
Jab Saath Tere “MAIN” Tha To Tujhe Zamaane Ki Zarurat Kya Thi ??

Add Your Comment